Monday, November 27, 2017

एक नज़र इधर भी

कभी देख लो एक नज़र इधर भी
की रौशनी का इंतज़ार इधर भी हैं
मुस्कुरा के कह दो  बातें चार
की कोई बेक़रार इधर भी हैं ||

समय  बदलता रहता हैं हरदम 
पर हर चीज़ समय के साथ बदलती नहीं
परे होती हैं दुनिया के बंदिशों से कुछ चीज़े
हर चीज़ ज़माने के साथ चलती नहीं ||

वो जो तुम्हारे सीने में दफ़न हैं
और मेरे दिल में छुपा रहता हैं
वो अहसास में आग भले न हो
पर खुरचने में इसकी गर्माइश
आज भी कायम हैं
भले ही वो इफ्तकार आज हो न हो ||











Wednesday, July 19, 2017

बन जाना कभी

कभी मैं जो रास्ता बनु
तुम मेरी मंजिल, बन जाना कभी
मैं तुममे और तुम मुझमे
इस तरह सिमट जाना कभी ||

की जब बनु मैं सोच
तुम अहसास बन जाना कभी
वयां जो कर ना पाऊ खुद को कभी
मेरे लफ़्ज़ की आवाज बन जाना कभी ||

ख़तम हो जाए उड़ान जब मेरी
मेरे थकान  की  आराम बन जाना कभी
हो जाये ख़तम एक दूसरे में
कभी तुम मुकाम, बन जाना मेरी ||


एक नज़र इधर भी

कभी देख लो एक नज़र इधर भी की रौशनी का इंतज़ार इधर भी हैं मुस्कुरा के कह दो  बातें चार की कोई बेक़रार इधर भी हैं || समय  बदलता रहता हैं हर...