Thursday, December 23, 2010

गरीबो पे जंग

ये कैसा सरकार ने कदम उठा रखा है  
जंग गरीबो पे खतरनाक चला रखा है
गरीबो को हटाना है, उन्ही के  देश से
प्याज की बढती  कीमत तो एक बहाना है
__________________
दो बूँद पानी की मिल जाए , शुक्र है
हम गरीबो को और, क्या ज्यादा  सुख है
लूटने के लिए सारा देश तो दे रखा है
अब क्या हमारी आत्मा से भी बैर निभाना है
________________
लाल बत्ती के शोर में गुम है इतने
हमारी आँखों से गिरते आँसू की आवाज ,
कहाँ  सुन पाएँगे  
आतंक से जंग तो जीत नहीं पाए
अब क्या हम गरीबो के सीने पे
बन्दूक  चलायेगे ??
_____________________

Wednesday, December 01, 2010

16th Asian Games 2010 : Care to knw.......

Okie , everyone is busy , from AP cabinet to Delhi Parliament. Some are trying to save their skins and others, trying to show. The great indian demo- democracy at work. I was busy too, u see, life of a software engineer is not easy!!!Tea , Coffee , Barista ...Phone calls , networking & some work .... the cup always remains full. So busy i was, that i couldn't catch all games of Asaid. For all GGB(I say google generation boys) Asiad was first held in delhi !!!! then again in 1982 ...i dont knw when it will come back to India. May be when someone from Garibi Hatao Group will wake up to remove his garibi....haha...Commonwealth hangover!!!
Back to Games...As expected China did a great opening job!!! afterall they had to outdo us!!
This Asian games was unlike CWG , In CWG known sport heros dominated the turf, Asian Games in other hand was all about black sheeps. I did manage to chk some of them!!
Blast from the past  CWG 
I expected Deepika to do well in individual archery event , she did well to fight some of the world best archers, but went down fighting without a medal , however as a team they did did manage to grab a bronze , i tell u once they were down 6 point from Taipei .... the last round was a cracker from Dola and Deepika. Rimil too did well to hang on. I couldnt catch up with men event , but i knw tht Tarundeep Rai got silver....

In Gymnastics i was more that sure that Ashish would do well , he got a bronze ...i tell u its tuff out there with Chinese , KZKies , Koreans and Japies....

Pankaj advani is a hero ...and he did exactly the same , A gold ...the first gold for India. Same story here ,
he was 2-0 behind some guy from some palce (Philippines i guess) but came back strongly.
I must say the phili was riding the best moments of his life thr....it was his first outing in asain ...and he didnt have exp...still he managed to reach the finals. I heared he defected Geet Sethi....strong guy ha....but at the end Pankaj got the best of two!!

Vijender and Krishna continued to do well......making boxing more and more popular ... the boxers kept the flag high... kudos..to them...even female boxer did well.... Sad for Mary Kom...she was expecting a gold...she just missed...

We got the Paki's
I got to see the hockey to , first time i saw them playing well. they again defected Paki's. bechare Paki , though Pakis won the gold medal, they will still have to live with the defeat by Indians.

Some surprises

Rowing was a surprise , a guy called Bajrang Lal Takhar got gold medal. i couldn't catch it, all this events were in morning time ... and i tell u i m so lazy to get up so soon. They got i guess 3 medals from this not so knwon even in India. I alwasy though these "Naviks" only sung songs near Yamuna ghat.

A letdown
Heros fall!!! so did Gagan , Manavjeet SIndhu , Samresh Jung.....
Shooting was a let down, i guess we got overconfident. apart from Ronjan Sodhi , no body could live up to the expectation. I knw now, expectation kills. Gagan....i epxpect nothing but a goal from u:)
The Gen Y Guys

For once we didnt miss Paes and Mahesh.  Tennis showed what young Indians can do, when our old guard were out playing matched for themselves , these Gen Y guys kept the tennis flag high. Somdev played like a star. He is gonna be a strong guy in tennis in coming years. I must mention Sania played with a lion heart. she indeed is a giant killer. but i think the guy looking girl was too good for her..and she went down fighting. I salute u for ur spirit Sania.
Apne Ghar me Kutta bhi Sher
Saina was riding high on expectations. but u see badminton is a trademark game of Chinese , Koreans and etc. she had to come empty handed. not an issue...keep playing Saina .
And the Winner is
But what made news was Athletics ............ u see we Indians are weak guys. after all we veggies cant build muscles on grass right. but this time  history had to bend..and it did .  The athletes came to the party. Preeja Sreedharan, Sudha Singh,Ashwini Chidananda ,Tintu Lukka,Kavita Raut,Joseph G Abraham and many others ran with their hearts on their legs . hey can  u read between lines....most of the medal came from women in athletics.... I guess P T Usha must be a happy woman !!!
Some senti words!!!
There were many more , all of them with some stories. Some, because of the system , Others, despite of the system....all of them fought hard ...sometimes for themselves, sometimes for India. Everyone who participated to take India to another level needs our support. In India whr daddies and teachers scold and beat their kids for playing anything ( i was beaten too) , where playing is understood to be a waste of time. These guys fought hard to fight for India. They all are great humans with a golder heart....keep it up guys .....if not anyone i am behind u.

  
- A voice from not so from GGB(Google Generation Boys)

बचपन के सेलेट

काश अपनी ज़िन्दगी
बचपन के सेलेटो की तरह होती
बन गए इन लकीरों को
मिटाने में मुश्किल नहीं होती

एक बूंद कभी पानी तो कभी
एक अक्स ही काफी होता
हथेलियों से मिट जाते हर लफ्ज
हर कहानी के लिए जगह काफी होता

हर लफ्ज के साथ
इसके सीने में उसके रचनाकार दफ़न हो जाते
कहानी भी होती छोटी
सब राज दफ़न हो जाते ||

Wednesday, November 03, 2010

शुभ दीपावली ....

कामना करता हूँ की आपकी दीपावली मंगलमय हो !!!

Tuesday, November 02, 2010

निशब्द ...

कभी कभी 
कुछ कहना कितना मुश्किल  होता है 
शब्दों की गांठ बंधना 
आसान कहाँ ||
इन शब्दों में 
पिछलन गजब की है 
इनके उलझनों को सुलझाना 
आसान कहाँ ||
अच्छा है अहसास 
मूक ही रहें 
इन्हें शब्दों की कमीज पहनना 
आसान कहाँ ||


Wednesday, October 27, 2010

मेरा बिहार !!! (Republished)

मेरा जन्म  बिहार के एक शांतिपूर्ण कस्बे में हुआ था , धीरे धीरे पूरा बिहार एक जंगल राज में बदल गया !! मेरी पंक्तिया उन्ही लम्हों को बयां करती हैं !!! मुझे पूरी आशा है , किसी दिन वहा उजाला तो होगा , पर तब तक मेरा इंतज़ार कायम रहेगा !!


कभी  हसती  थी  फिजाए  जिन   गलियों  में . 
वहां   अब  सन्नाटो के  जाल  बिछे  हैं  . 
नन्हे  पैरो   की  छाप  जहाँ   छोड़  रखी थी  मैंने  
वहां  आंशुओ  के  लम्बे  नहर  बन  चुके  हैं  
................................. 
दह  गयी  है  वो  दीवारे ,जिनके  पीछे  हम  छुपा  करते  थे  
बह  गए  है  वो  दरख़्त ,जो  वहां खड़े  रहते  थे . 
जहाँ   रहती  थी  अक्सर  रौशनी  की  लम्बी  परछाईया       
वहां  अब   दिए  भी  जला  नहीं  करते  हैं  
.................................. 
बिखरी  ज़िन्दगी  के  पल  बचते  छुपते  रहते  हैं . 
दिन  रात  के  अंतर   खत्म  हो  रहे  हैं . 
लाल  आँखों  से  निकली  चिनगारिया  ही  दिखती   हैं . 
मोम  से  बने  दिल  भी  सख्त   हो  रहे  हैं  
.................................... 
किधर  जाए  क्या  पता ,राहों  के  निशा   धुल  गए  हैं . 
सुनसान  अंधेरो  में  खूखार  भछक  घूमते  हैं . 
बरसो  से  अब  मेरे  नन्हे  पैरो    की  आहट  नहीं  पड़ती  
और  मौसम  के  सरगम  धीरे  धीरे  छुप  रहे  हैं . 
_______________
 चित्र http://www.scaryforkids.कॉम से लिया हुआ 

Wednesday, October 20, 2010

Ek Purani Gazal

मैंने ये ग़ज़ल सालो पहले लिखी थी , कभी यहाँ डालने का वक़्त नहीं मिला ...

जिसे याद करके रोये
वो हसे हमे भुला के
दिल ऐसा मेरा तोडा
छोड़ा, हमे रुला के ||
अच्छा था तेरा आना
मेरी ज़िन्दगी में माना
पूछो ना मुझसे कैसे
तडपाया तेरा जाना ||
एक बार तो मिला दे
फ़रियाद कर के रोये
सोया गया ना मुझसे
सारी रात भर के रोये || जिसे याद कर के रोये .....

Tuesday, October 19, 2010

Love In Computer Language (Republished)

इतना   miss करते  हैं   तुमको  
की  monitor पे  हर   वक़्त  तेरा  चेहरा  दिखता   रहता  है  
मुझे  छोड़  दो  ,ये  keyboard भी  
तेरा  ही  नाम  लिखता  रहता  है .. 
..... 
तेरे  यादो  की  script दिल  पे  बार  बार  
Timly execute होती  रहती  है  
हम  बार  बार  memory free करते  है  फिर  भी  
ये  CPU दिल  की , तुम्हे  सोचने  में  ही  busy   रहती  है .. 
.... 
कितने  Variables बदल  डाले  हैं   इस  दिल  के  
पर  core algo पर  तेरा  ही   logic छाया  रहता  है .. 
बार  बार  Itration छोड़  कर  line debugging करते  हैं  
पर  ये  मन  तेरे  ही  लूप  पे  अटका  रहता  है ... 

Sunday, October 10, 2010

CWG Updates from a Dummy guy

I have never been a multi sport lover as such. From the day I was born, everyone played cricket , cricket & cricket , sometime i use to think that Gulli Danda was one variant of cricket. I too was a decent cricketer until my dad thought that playing was waste of everyone’s time and I was turned into a software engineer. Apart from playing  cricket , I had my chances to play or watch other sports like football , TT, a bit of tennis , badminton and basketball. I must say I have enjoyed them all. But …Hey, this article is not about me its abt CWG. If u don’t know what it means , it is termed as Commonwealth Games….before some media goons turned it as Con Man Games. I must say I enjoyed all the mud thrown on Mr Cool Madi, I wish throwing mud was also one of the discipline in CWG , we must have got a gold medal. Personally I though the media really sometime made “teel ka pahad”. Being so called a third world country , this is the best arrangements we can expect. Now back to games….since I was part of mud throwing sin, I though it was my duty to watch CWG games and increase some TRP, at least this way the Pepsi , the Cocks & other brands will start sponsoring such events.  Personally I felt so bad not seeing such brands  sponsoring these events , I feel its their responsibility it sponsor such events for India. Or else in my view they are traitors and should be knocked out of the country. Accha , so now about games, I completely remained hooked to as many matches as I could watch , believe me I found  them very interesting , they looked all great in my 42’’ LCD , thanks to DD new offering in HD. After many years I watched something on DD.  To start with what I liked….
Shooting
I have heard the likes of Jaspal Rana , Samresh Jung , Abhinav Bindra & Gagan Narang. I also know someone called Anjali Bhagwat, I remember seeing her cool snap in a newspaper some years ago. I don’t know why she is not part of games this time around.since I know some many names, it means shooting is not that alien to me. In this CWG, my expectation were high from them,  & and to my point they did manage to perform at that level. I liked Narang , he did what a champion do , hit the bulls eye every time you see a bull… Gagan & Abhinav are rare breed of champions.... they never fail..they are like our bollywood movie stars. Seeing them i guess, other shooters also tried to do well , I remember some of them, like Omkar , Anisa, Harpreet..etc. Once I was watching single trap event , a game where a disk flies and u got to shoot them. I think Manavjeet sindhu did really well to get a Bronze. He defeated some Canadian in a tie breaker. It was a tensed match. Tension can kill you sometimes , but he managed to remain calm & focused, in other events I found many such heroes who managed to remain calm in demanding situations…
My List of black sheeps
Liked Rahul Bannerjee in Archery, you won’t believe trough out his journey to the final he had to go through tie breakers. I tell you it is tuff to perform in such testing conditions. Hats of to him
Liked ,  Shayamali , I saw this girl playing table tennis. Believe me she looks so non fancy. O’ god she really played great under tense conditions. Another hat for her.
Also I can remember some ajib sport called lawn ball, I felt it was boring. But given it was a new sport in India, some young Indian player made Canada bite dust , u guess what!! Canada is playing this game from last 20 years and our team just started 6 months back!!! we are good at learning things:-)
The one’s who played like brave hearts
I always hated Sania Mirza , Why…..may be because I knew she had it in her to become the top 10 player in the world but she never tried so hard.  But this time when I saw her fighting hard for a gold medal with an Aussi, I loved her. She fought really hard, The Aussi really had a tough time defeating her. At the end, the better of them won!!the AUssi. I guess weak serve of Sania , did her in. but Hats of to Sania for a spirited performance.
Sania Nehwal   , though not a match for gold medal I guess, she was up against one Malaysian. Down 2-0 in mixed events of badminton, it was a do or die match for India. The Malaysian (forgot her name) gave her a tuff time, very tuff time. She was indeed a very strong player ranked number 12-17 in the world. But as I said , a champion is what a champion do. Saina managed to win this game. Kudos to her for that fighting performance.
Some new heroes
Apart from many names I knew, i also saw some new faces making their mark in the new kind of disciplines for India. They are the ones who will be trend setters for India in coming future. I loved Ashish Kumar , jumping on the rods. Till then I always believed only Rajnikant & the Chinese’s could do such act. Ashish won a silver in gymnastic, please note … he is the first Indian to give India a medal in Gymnastic. I heard he was coached by some Russian gymnast, thanks to federation for arranging something for the athletes (Only few times they do such heavenly things). Other name I knew in athletics was Anju baby Gorge , I don’t know why she is not this time, I hope this is not due to some politics   . But this time someone called Prajusha won a silver in long jump. I didn’t see her game but saw some channels showing her name. Congrats to her to get India a medal. At last I would like to mention a girl called Deepika Kumari, believe me she looked very one of us. Not even having a fancy topi like Dolla Banerjee , Dolla is the only name I knew in female archery. I think Deepika was great to win a gold , she fully deserved that. The one whom she defeated was, I guess an Aussi. First time a saw an Aussi , accepting defeat in a better manner.
At the end I would like mention three things, Kusti , Boxing and Haryana. We almost dominated everyone in Kusti, Sushil , u must watch him, he is like a tiger inside the ring but equally humble outside the ring. Mark of a true champion. All 3-4 rounds, he just didn’t allow his opponents to live for more than 2-3 minutes. All chits….by the way in my next post I will tell you about new things I have learnt about these sports. I also loved Yogeswer Dutt & Joginder. Not to mention I loved kumari Babita and Kundu too. Hats of to them for winning medals in female kusti.   In boxing Vijender played like a champ. Defensive when needed , offensive when required. I too learnt some lessons , will tell u in next article. I also loved Dilbag singh. I didn’t like someone called Anil(Boxer) I guess, he was rude and too offensive inside the ring.
Given 40% of medals came from Haryana, wht a sporting state yaar. We must learn from them. Thanks to one and all for making this happen in Haryana(bhivani & Bhivandis)… hope we get more of such states.
(ps:if you find some mistakes in my article ,please spare me, i am not a full time editor or a writer i just though it was important to write abt CWG. afterall its only abt my poems all the time.)

Wednesday, September 29, 2010

आज का महाभारत

तन्हा  बिखर  सा  गया  है 
कुछ  शब्द   कहानियो  से  उतर  सा  गया  है 
दूर  चला  है  जो  रौशन   ज़हां   को  छोड़   के 
ये  मन  कुछ  उजाड़  सा  गया  है ||

ये  जो  कुरुछेत्र  सा  हर  जगह  छाया  है| 
हर  कोई  ने  खुद  को  पांडव 
और  दुसरे  को  कौरव  बताया  है|| 
लुट  रही  है  द्रौपदी की  तरह  सच  की  इज्जत |
ये  दुशाशन  क्यों  सबके  मन  पे  चढ़  आया  है|| 

क्यों  सब  राम  नंगे   पैरो  ,
बेबस  जंगलो  में  घूम  रहें  हैं |
पवनपुत्र   का  भेष   बदल  के 
हर  रावण  उनका  रक्त  चूस  रहें  हैं ||

कलयुग  में  रचे  गए  ग्रंथो  में |
कौरव  का  ही  बोलबाला  है|| 
हर  रचे  गए  महाभारत  में  यहाँ अब|  
अधर्म  ही  जीतने  वाला  है ||


Friday, September 17, 2010

Friday, September 03, 2010

Assorted Love Words!!!

एक तस्वीर तुम्हारी
आँखों में लगा रखी है मैंने
तेरे चेहरे को ही
अपनी दुनिया बना रखी है मैंने ||
_____________________
तेरे चेहरे को ही अपनी
दुनिया बना रखी है मैंने
कभी आओ तो जानोगी
की ये दुनिया कैसे सजा रखी है मैंने
_____________________

कभी आओ तो जानोगी 
की ये दुनिया कैसे सजा रखी है मैंने 
एक तिनका सा मोहब्बत का , सहारा ले के
अपनी सासों को बचा रखी है मैंने
_____________________
एक तिनका सा मोहब्बत का , सहारा ले के
अपनी सासों को बचा रखी है मैंने 
देख पाएंगे तुम्हे एक बार ही सही 
चन सासों को छुपा रखी है मैंने 
______________________

Sunday, August 29, 2010

इन शहरो में

कुछ सीलन सी है
मेरे घर के दीवारों में
बारिस की कुछ बुँदे
मेरे घर रहने आ गयी है
________________
लगता है इनका मन
ज़मी पे लगता नहीं
की हरयाली शायद
ज़मी को छोड़ के
आजकल इमारतो के
छज्जो में समां गयी है
___________________
ठंडी हवाए बहती नहीं रास्तो पे
पंख खोलने  को जगह नहीं है
मकानों के अन्दर ही बसेरा है इनका
बंद रहना आजकल सजा नहीं है
_________________________

Thursday, August 19, 2010

All is Well!!!

सब देखते हैं अंधेरे को
इस अंधेरो में रौशनी कोई क्यों देखता नहीं
हथियार खून रक्त की चर्चा हर जगह है
पाल रहें पेड़ो की माली को कोई पूछता नहीं ||
भ्रष्ट नेताओ की बात सब कोई करते हैं
रोज लड़ रहें समाजवादियो को कोई सोचता नहीं
मिल रही है हर बेकारो को जगह हर अखबारों में
अन्ना हजारे , उनिकृष्णन को कोई पूछता नहीं ||
आज भी इमानदारी कायम है
नहीं बिश्वास तो इन पक्तियों को पढने वाले दिल से पूछ लो
जो ना होती सच्चाई आज भी दिल में
तो कब के अँधेरे खा जाते हर सुबह को ||

Monday, August 02, 2010

Just Doing Nothing...

It was such a boring day...Didnt do anything!!! just played with Ms Paint...

Thursday, July 22, 2010

बातें कम हैं

लफ्ज कहाँ  मिलते हैं
हमें कोई बता दे ज़रा
हमे भी दो चार आने के
बातें खरीदनी है ||
की अक्सर प्यार बताना
मुस्किल पड़ता है मुझको
कभी राते तो कभी बातें
कम पड़  जाती हैं ||
ये मन सोचता है कुछ कहने को
पर पेट के अंदर तितलिया उडती हैं
होटो से आती नहीं बाते बाहर
दिल की बाते दिल में ही रहती हैं||
आती है वो , आकर चली जाती हैं  
हम लफ्जो को गिनते रह जाते हैं
जान  नहीं पते खुद के मन को 
उनके चहरे को पदते रह जाते हैं |

Sunday, July 18, 2010

Ye kaIsi pYas hAi

(Refers to yEt aGain , oNe mOre tRain acciDent on  19th  जुलाई 2010)

फिर से हुआ है खून
शांत से बैठे
मूक बधिर हम जैसे परिंदों का
आज फिर लहूलुहान ट्रेनों ने
रक्त स्नान किया है

ये कैसी प्यास है
बेजान ट्रेनों का
जिसने हर दुसरे दिन
बेबस हम जैसे परिंदों का
रक्त पान किया हैं
....
क्यों बुझती नहीं प्यास इसकी
क्यों , कोई इसकी तृष्णा मिटाता नहीं
फिर ना धोये खून से ये हाथ अपने
कोई क्यों ऐसा , दिन आता  नहीं

Sunday, June 27, 2010

Story of an IT Professional!!!

मैं देखती हूँ  दुनिया को 
अपने कंप्यूटर के अंदर के windows से |
की अपने इस इमारत में 
बाहर देखने के लिए खिड़किया नहीं ||
मिलती हूँ अपने परिवार और दोस्तों से 
फेसबुक , ऑरकुट और लिंक्ड इन पे |
की मेरी ब्यस्त ज़िन्दगी में 
घर जाने आने का वक़्त नहीं ||
बनती रहती  हूँ  लॉजिक सारी दुनिया के लिए 
अपनी ज़िन्दगी कभी ऑन टाइम चलती नहीं |
पंक्चुअल हूँ अपने हर क्लाएंट मीटिंग में 
पर समय पर घर कभी, पहुचती नहीं ||
बखूवी manage करती  हूँ  बड़ी टीम को 
पर घर का मैनेजमेंट बिगड़ सा गया हैं| 
Project तो टाइम में चल रहा है 
पर घर का मौसम उजड़ सा गया है ||
सात समुंदर दूर , हर कोई जानता है मुझे 
पर घर का पडोसी पहचानता नहीं |
प्रोजेक्ट पे सब अंडर कण्ट्रोल है 
घर पे टिंकू कोई बात मानता नहीं ||  
पिछले दिनों घर के लैपटॉप पे 
ड्राफ्ट इ मेल मिला था 
टिंकू ने God@जीमेल.कॉम पे एक ख़त लिखा था 
कहता हैं , मम्मी रोज घर क्यों नहीं आती  |
सोनू के मम्मी की तरह , कहानिया क्यों नहीं सुनाती||  
पढते पढते मै आसुओ को रोक ना सकी  
जब कर ना सकी गिल्ट पे काबू 
तो देने God को clarification , 
दो कदम आगे बढ़ी|   
पर इन इमारतों से बाहर झाकने के लिए 
फिर से,
कोई खिडकिया नहीं खुली ||

एक और सिपाही

ये जो दिन के अँधेरे हैं 
कुछ काले मटमैले से सवेरे हैं 
उन काली स्लेटो में 
उजली लकीरे खीचना चाहता हूँ 
मैं इस देश का एक और सिपाही हूँ 
कुछ सूखे से कमजोर खड़े से पेड़ो को 
अपने रक्त से सीचना चाहता हूँ ||
बेतहास भागती टेढ़ी मेढ़ी सी 
बेअंजाम गलियों को काट कर 
कुछ पक्के नए से, सीधे रौशनी से भरे 
राहों को पाटना ही मेरा संकल्प हैं 
छोड़ दिया हैं मैंने अपने अपनों को 
अब इस देश के  सिवा, नहीं मेरा कोई बिकल्प है||
 Picture used from http://noelrt.com/wp-content/uploads/2009/01/soldier-silhouette.gif

Saturday, June 26, 2010

अपना देश

ये ज़मी ये आसमा 
छोड़ कर इसे कहाँ जाऊ
बसी है इस मिट्टी की खुशबू
मेरी सासों में
इस खुशबू को खुद से
कहाँ छुपाऊ ||
मेरा देश तो मेरा है
इसे छोड़ के
घर कहाँ बसाऊ
मकान तो कहीं भी बना लूँगा
पर समां सकूँ अपने देश को इसके अन्दर
इतनी जगह मै कैसे लाऊ||
मुझे बताओ
की एक मकान को
अपना मुकाम मै  कैसे बनाऊ
मेरा दिल तो हिंदी है
इसे कोई और भाषा कैसे समझाऊ
कुछ बाते तो मुझे हिंदी में ही अच्छी लगती है
भला हर बातो का अंग्रेजी अनुबाद कैसे बनाऊ ||

Thursday, June 17, 2010

एक भारतीय की कहानी ...

मै भारत का साधारण नागरिक हूँ
पूरा भारत मेरा परिवार है
कुछ एक फसादों को छोड़  दो
तो मुझे हर भारतवासी से प्यार है ||
पर,
मेरे कुछ भाई ट्रेन धमाके में मरे गए
कुछ बंधू गोकुल चाट खाते खाते
अल्ला को प्यारे हो गए
कुछ औरो को आतंकियों ने भुन डाला
चहकती महकती मुंबई की गलियों को
इन दरिंदो ने सुना कर डाला ||
फिर,
कुछ भाई बहनों को
निठारी के दैत्यों ने चबा डाला
जो बचे उन्हें समाज के ठीकेदारो ने
डायन कह के , जिंदा ज़ला डाला ||
भारत मेरी माँ हैं
सोचा था भारत में माँ को तो सम्मान देंगे
कहाँ  पता था चन रद्दी नोटों के लिए
कुछ मेरे ही भाई , अपनी माँ को बेच देंगे ||
अब
मेरा परिवार तर बतर हो गया हैं
कोई फॉरवर्ड कोई बैकवर्ड तो कोई SC/ST हो गया है
प्यार के रिस्तो का टेस्ट कोई खेलता नहीं
सबकी पसंद 20/20 हो गया है ||
हमारे रखवाले ही आज कल
हमारे हत्यारों से हाथ मिला रहें हैं
इसलिए तो सत्ता में बैठे मेरे बंधू जन
हमे छोड़ , भगोड़े anderson को अपना यार बता रहें हैं ||
(Anderson is prime accused in Bhopal gal tragedy that took more than 15000 indian lives , he was escorted freely from India to US by our own indian govt. , Arjun singh was CM of MP that time , and Late Rajiv Gandhi was PM and external affairs minister of India.))        

  

Tuesday, June 15, 2010

ये कैसा समाज !!!

जब जब कमजोरो और कुचलो पे (Ref to recent train killing)
जुल्म कही हो जाता है
कम्बल ओढ़ के ये समाज
दूर कही सो जाता है ||
वही बेबस कुचलो से कोई
जब आगे बढने आता हैं
दैत्य बन के फिर वही समाज
सामने खड़ा हो जाता है ||
कुछ पता नहीं क्यों मुझको
कुछ खास समझ नहीं आता हैं
मर जाते हैं हजारो बेमतलब ही (ref to bhopal gas killing)
तब क्या समाज तेल लेने जाता है ||
जब आती हैं न्याय करने की बारी
कोई खड़ा नहीं हो पाता है
बाहुवली और बलशाली के पीछे
खुद को खड़ा वो पाता हैं || (Congress full supporting its act to send anderson back)
लुटती है इज्जत जब चलती ट्रेनों में
कोई कहाँ  बचाने आता हैं
ये धरम करम का  रखवाला
क्या गा&**&%  मा%^^& जाता हैं(this is wht i want to write but....)
क्यों कायर इतना बन जाता है ||  

Thursday, June 10, 2010

कवि के रूप


कभी लगता है की वो
एक शब्दकार है
शब्दों को तराशना उसकी फितरत है
भावनाओ से खेलना उसकी आदत
वो शब्दों का आकार है
हा , शायद वो शब्दकार है ||
कभी लगता है की वो
एक चित्रकार है
लेखनी उसकी तुलिका है और भावनाए उसके रंग
शब्दों से चित्र बनाता हैं
वो चित्रों का संसार है
हा , शायद वो चित्रकार है ||
कभी लगता है की वो
एक कलाकार है
कहानिया उसके मंच हैं और लफ्ज़ उसके नायक
कविताओं से अभिनय करवाता है
वो रंगमंच का सूत्रधार है
हा , शायद वो कलाकार है ||

picture used from http://fineartamerica.com/images-medium/portrait-of-the-crazy-poet-kelly-jade-thomas.jpg

सपने काम आयेंगे ...





सपनो से कभी दूर ना करना खुद को
एक दिन सपने ही साथ देंगे तेरा
कुछ कर दिखाने   की तमन्ना
रंग लाएगी एक दिन
एक साधारण व्यक्ति की आसाधारण कहानी , पूरी कहानी के लिए रीडिफ़ लिंक पे क्लिक कीजिये.     

Monday, June 07, 2010

beating the odds

य़की  हैं  जो  तुम्हे  खुद  पर
ये  आसमा एक  दिन  जरुर  झुक  जायेगा
किस्मत  पैसो  की  गुलाम  नहीं  होती
मेहनतकश  है  तू  अगर ,
बस  खोल  दे  किवाड़ ,
एक  दिन  मिलने  किस्मत
तेरे  दरवाजे  पे  
चल  के  आएगी  ..
News extract from Rediff (07 June 2010)

Saturday, June 05, 2010

तूफ़ान आते हैं

अँधेरी रातो में
तूफ़ान आते हैं
पता किसी को भी नहीं चलता
बरबादी फिर भी मचाते हैं ||
कही  दिल कुचले जाते हैं
कई  सपने दफ़न हो जाते हैं
आँखों को भी नहीं चलता
बरबादी फिर भी मचाते  हैं
अंधेरी रातो में
तूफ़ान आते हैं ||
हवाए तेज होती हैं बहुत
अरमानो के काटो में फसती  नहीं
दिल को चिर के निकल जाती हैं
पता दिल को भी नहीं चलता
बरबादी फिर भी मचाते हैं
अंधेरी रातो में
तूफ़ान आते हैं ||
दिखता सब है अंधेरो को
अंगूठा दिखाती है सवेरो को
जो ना देख पता हैं मन के वाबंदर को
उबल रहें घनघोर समुन्दर को
जो इंसान बनाते हैं
इसलिए
अँधेरी रातो में
तूफ़ान आते हैं
पता किसी को भी नहीं चलता
बरबादी फिर भी मचाते हैं ||
picture used from http://mdb2.ibibo.com


Friday, June 04, 2010

Mai bhi US Jaau

एक बार मेरे मन में आया
मैं भी US  जाऊं
क्या रखा हैं रूपये में
मै भी dollar में कमाऊ ||
अपनों को कर के टाटा
हमने भी बिस्तर बांध लिया
बढाना हैं अपना भी बैंक बैलेंस
हमने भी मन में ठान लिया ||
कहा थैंक  यू GOD को 
जो वीसा में पास हो गए 
क्या कहू plane में  बैठे बैठे 
हम भी cattle class हो गए     ||
चलो जैसे भी सही
हम US पहुच  गए
थोडा गम तो हुआ की
सब अपने पीछे रह गए ||
देख कर US हमे तो
बड़ा मजा आया
चैन मिला दिल को की
सर खाने कोई ऑटो वाला नहीं आया ||
कुछ हफ्ते तो दिन मेरे
बड़े चैन से बीते
गुजर गए यु ही पल
starbucks की coffee पीते पीते ||
जब आई घर की याद तो
Skype लगा लिया
हमने भी internet पे
अपना अड्डा बना लिया ||
अजब थी दुनिया यहाँ की
हम लेफ्ट तो ये राईट चलाते  थे
आधे से ज्यादा ज़िन्दगी
अपनी कारो में बिताते थे ||
शोर शराबो की आदत जो थी इतनी
की ये सन्नाटे मुझे फिर सताने लगे
जेब में भरे dollar थे फिर भी
रूपये मुझे याद आने लगे ||
आने से पहले मुझे बीवी की
लम्बी लिस्ट याद आ गयी
डाल लिया हर Item
जो भी बस्ते में समां गयी ||
जा कर White House हमने
कुछ और फोटो खिच्बायी
इससे पहले NRI बन जाऊ
India की return ticket  कटवाई ||
Picture used from http://www.destination360.com

Monday, May 31, 2010

खोये रहते हैं (Gazal)

तेरी  आँखों  में  खोये  रहते  हैं


तेरी  आँखों  में  खोये  रहते  हैं


दिन  भर   सोये  सोये  से  रहते  हैं


तेरी  आँखों  में  खोये  रहते  हैं
...


तेरी  जुल्फों  को  हटाने  की  कशिश


तेरी  जुल्फों  को  हटाने  की  कशिश


हम  तो  तेरे  पास  खड़े  रहते  हैं


हम  तो  तेरे  पास  खड़े   रहते  हैं


तेरे  आँखों  में  खोये  रहते  हैं ...१
....


कितनी  गहरी  सी  हैं  आँखे  , उसपे  हिरनी  सी  चमक


कितनी   प्यारी  हैं  ये  बातें , उसपे  सोंधी   सी   महक


हम  तो  पल  भर  भी  नहीं  हटते   हैं


तेरे  आँखों  में  डूबे  रहते  हैं ...१

(Picture used from www.flickr.com)

Sunday, May 30, 2010

मनवा करे है धक् धक्

(नीचे लिखे पोएम को गाने की तरह पढ़िए , ये एक इंतज़ार करती गाव की औरत की बारे में है )
खाली मनवा करे है धक् धक्
कोसे  है दिल को , करे हैं बक बक ....खाली मनवा ||
गए हैं दूर , पिया हमसे , 
भाए ना कुछ कुछ , पिया तबसे 
जुगुनुवा से करे हैं बातें 
आधी रतिया काटे हैं तन को ....खाली मनवा  ||
नदिया छोर ,  का करे है कस्ती ?
एक पग ना चले है, कस्ती
करे हैं डगमग , पउवा ना सम्हले
कैसे भर लाऊ कुए से पानी .... खाली मनवा ||
भरा हैं आंखन , करे हाउ डब डब
पढ़ा ना जाए , मनवा भर आये
कैसे खोलू चिठिया तोरा
हथिया मोरा पत्थर हो जाये ....खाली मनवा||

अर्थ प्यार का

तेरे तन्हइयो के गम में
हम बार बार मरते रहे
हर सास बोझ लगती थी हमे
इसलिए दिल के बोझ , बढते रहें||
...
उठाया नहीं गया एक दिन
ये बोझ मुझपे भारी से  हो गए
ज़ला डाला दिल को, टुकडो में काट कर
आंशुओ के सैलाब में , ये कतरा कतरा बह गए ||
......
दिल जो ना रहा, मन ,खाली सा हो गया
चिराग बुझ गए तो , मैं सवाली सा हो गया
कम से कम जुड़े थे, तेरे तन्हइयो की यादो से
अब  तो बेदिल मैं , भिखारी सा हो गया ||
....
भटका कहाँ  कहाँ  , मैं खुशियों की दौड़ में
गया जहाँ  भी, दिलजले मिले
खुदा से मांगी मोहलत , मोहब्बत के नाम पे
की आधी ज़िन्दगी तो मैंने , कतरों में काट दी ||
......
दिखा आइना मुझे , उपरवाला भी हस पड़ा
दी तुम्हे चाहत का तोफा , तुमने क्या समझ लिया
रख लेते उसे एक कोने में , कहाँ पूरा दिल चाहिए था
ऐसी अनमोल यादो के , तुमने कतरों में बदल दिया||
.....
आपने नादानी पे , हम खुद ही  हस पड़े
एक हीरा था मेरे पास , ना समझ सके
कद्रदान था खुदा , मुझपे फिर इंनायत हुई
इसबार हम प्यार को , कतरा ना होने देंगे
तन्हाई , दूरिया , दर्द या खुशी मिले जो भी
हम फिर से इन्हें, खुदा कसम , बोझ ना कहेंगे |

Friday, May 28, 2010

I am angry:-|

( I am deeply hurt by death of 70 + people on suspected Maoists blast!!i am angry on killers..but i am more angry on people who have failed us.)
वो  बंद  कमरों  में , चरखा  चला  रहें  हैं ..


कोई  देखो , बाहर  खुनी , कत्लेआम  मचा  रहें  हैं ...

.......

गुम  हैं ठंडी  हवाओ  के  शोर  में  इतना  ..

मजबूर  जनता  का  शोर , नहीं  सुन  पा  रहें  हैं ...

नंगा  कर  दिया  हैं  इन  पापियों  ने , मजबूर  लोगो  को

वो  साहब  बंद  कमरों  में  चरखा  चला  रहें  हैं ...
......
वो  खून  की  होली  हर  रोज  खेलते  जा  रहें  हैं

कभी  स्टेशनों  , कभी  पटरियों  पे  , लहू  नज़र  आ  रहें  हैं ,

ये  व्यस्त  हैं  चूजों  की  गिनतियो  में ,

घर  बैठे  गाँधी  टोपी  बना  रहें  हैं
....

हक़  नहीं  हैं  इन  लोगो  को  एक  दिन  और  जीने  का

आँखे  खोल  जो  जानता  को  मरते  देख  रहें  हैं

कैसे  दरिन्दे  हैं  उजली  टोपी  पहने 

भूकी  जानता  को  आन्गिठेयो   में   सेक  रहें   हैं

Monday, May 24, 2010

भाग्य !!

ए  चित्रगुप्त 
सुना है एक लेखनी है आपके पास
जो रखती है हर किसी का हिसाब ||
मेरे कहानियों में कुछ पन्ने , मटमऐले से है
गर्द और दागदार कुछ छन , अकेले से हैं ||
दे सकेगो वे लेखनी , मुझे एक दिन के लिए
मुझे कुछ किस्सों के किरदार मिटाने हैं
ज़िन्दगी के गहरइयो में जा कर
कई दिलो  के हिसाब चुकाने हैं ||
महान इंद्र
सुना है बूंदों का सागर है आपके हाथो में
हर तपती ज़मी की , प्यास बुझाते हो
बंजर , पर्वत , नदी , झरने
सबको बस आप ही बनाते हो ||
क्या दे सकोगो कुछ बूंदों मेरे भी हाथो  में.....
मेरे बागो में में भी, सूखे कुछ दरख़्त हैं
बहूत कमजोर से खड़े हैं एकटक आँखे ले के
बाहर से दिखते , बहुत ही शख्त हैं ||
कुछ बुँदे शायद बदल दे मेरे बागो को
शायद नए  पत्ते निकल आये , बूंदों को देखकर
पतझड़ जाए ना जाए मेरे बागो से गम नहीं
शायद खुशिया आ जाए , पल भर का सावन सोच कर ||

पैसा पैसा

कभी बना था पैसा लोगो के लिए
आज पैसे  के लिए लोग बनते हैं
सुबह शाम भाग रही है दुनिया
हर चेहरा पैसे के ले बदलते हैं
..........
कितना अजीब हैं पैसा
हर पल बसेरा बदल लेता हैं
प्यार इतना फिर भी है, पैसे से
हर कोई खुद को, बदल देता हैं
.....
जानते नहीं हैं ज़िन्दगी की कीमत
हर कीमत वस, पैसा ही बनाती हैं
अपने पराये, अब खून से नहीं
पैसे के वजन से आकी जाती हैं
....
इस अंधेर ज़माने में
पैसा ही चमकता सितारा है
मंजिले मिलेंगी उन्हें , जिन्हें हासिल हैं पैसा
वाकिओ के लिए , भगवान् ही सहारा हैं
..
Picture taken from www.flickr.com

Saturday, May 22, 2010

मै तो मैं हूँ

 मैं कौन हूँ
कोई बता दे मुझे
क्या करे की मिले खुशी
कोई समझा दे मुझे  |
देखा  जिस किसी को
सब सवाल ही लगे
परमात्मा , आत्मा
सब ख्याल ही लगे ||
आँखे मूंद चलू
या , खुद के रस्ते बनाऊ
या, फिर दुसरो के लिए
खुद ही, एक रास्ता बन जाऊ |
ज़न्दगी कितनी सकरी सी है
दो हाथ कुछ खास खुले  नहीं
आस पास की दीवारों ने , ज़कड़ दिया
पंख खोल , कभी आसमानों में उड़े नहीं ||
ज़ब खोले नहीं सब राज़ पहेलियो के
तो सब प्रशनो की गुथी कहा से लाऊ
कुंजी तो बाट, मैं भी सकता हूँ
पर खुल जाए, वो ताले कैसे बनाऊ |
बहूत पढ़ा हैं पन्नो में , किस्से ज़िन्दगी के
उन्हें काट के अपनी कस्ती कैसे बनाऊ
बहूत करीब हु मैं अपनी कहानी से
मैं तो मैं ही हु ,
भला मैं, उन पन्नो सा कैसे बन जाऊ ||
(Picture used from http://www.rogermurrell.com)

Friday, May 21, 2010

बिछोह


अहू अहू करे , दिलवा हमार
कहे नहीं कुछ भी , कभी
कभू करे बतिया हज़ार
अहू अहू करे
दिलवा हमार
...
टुक टुक देखे , कभी
खोले किबाड़ 
कैसन कैसन बतिया , आये मन में
डर लगे है , सरकार
कैसे खोले हम किबाड़
अहू अहू करे ...दिलवा हमार
....
जला हाउ दिलवा ऐसे
चूल्हा में कोयला जैसे
हो ना जाये राख , दिलवा हमार
.....
किते दिन बीते है रोज
बीते नहीं विरहा  के शोर
खट्टे से  लगे है पल
डंक कटे  हैं जोर, बिछुवा हज़ार
अहू अहू सा करे हैं , दिलवा हमार
....

Sunday, May 16, 2010

रक्त

कुछ लाल सा हैं
कब से, उबल रहा
मचल रहा ......
तोड़ने को हर हदे
दिल की हर सरहदे
चल रहा
कुछ लाल सा हैं ...उबल रहा
....
कोई साथ दे अगर
एक हाथ दे अगर
कोई तो दिशा दिखा
कोई रास्ता बता
कुछ लाल सा ....उबल रहा ...
....
ठाहरा नहीं , कही
जब से मिली  ज़मी
बहता ही रहा
कितने दिए सितम
लेकिन हर जनम
सहता ही रहा
कुछ लाल सा  है.....उबल रहा
..
कोई आग तो जलाये
कुछ लकडिया तो लाये
चुपचाप कब से बैठा
कही ठंडा हो ना जाए
कुछ लाल सा है ये ...कब से उबल रहा
......
पंदंदिया बना के
नलयो में बांध डाला
कुछ कर ना जाए ये
कबसे मचल रहा
कुछ लाल सा है ...कब से मचल रहा
....

एक नज़र इधर भी

कभी देख लो एक नज़र इधर भी की रौशनी का इंतज़ार इधर भी हैं मुस्कुरा के कह दो  बातें चार की कोई बेक़रार इधर भी हैं || समय  बदलता रहता हैं हर...